U.S. H1B वीजा एक प्रकार का नॉन-इममिग्रन्ट (non-immigrant – गैर-आप्रवासी) वीजा है जो संयुक्त राज्य में कंपनियों को विशेष व्यवसाय में ग्रैजुएट स्तर के कर्मचारियों को नियुक्त करने की अनुमति देता है जिन्हें तकनीकी या सैद्धांतिक विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। इसमें वित्त, आईटी, विज्ञान, इंजीनियरिंग, मैडिसिन, वास्तुकला, गणित या लेखांकन जैसे विशेष क्षेत्रों का काम शामिल है। नॉन-इममिग्रन्ट वीजा के लिए आवेदन करना अक्सर ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन करने से तेज होता है। हालांकि, वीज़ा कैप (visa cap) के कारण H1B वीजा हासिल करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

उद्घोषणा 10014: ग्रीन कार्ड प्रतिबंध (Proclamation 10014: Green Card Ban)

नॉवेल कोरोनोवायरस के कारण वर्तमान में अमेरिकी यात्रा पर प्रतिबंध ने अनगिनत प्रवासियों को देश में प्रवेश करने से रोक दिया है। 22 अप्रैल, 2020 को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने – 2019 नॉवेल कोरोनावायरस के प्रकोप के बाद आर्थिक सुधार के दौरान संयुक्त राज्य के श्रम बाजार पर ख़तरा पैदा करने वाले प्रवासियों के प्रवेश का उद्घोष 10014 जारी किया (issued Proclamation 10014, Suspension of Entry of Immigrants Who Present a Risk to the United States Labor Market During the Economic Recovery Following the 2019 Novel Coronavirus Outbreak)। हालांकि, कुछ छूट दी गयी है। H1B वीजा धारकों के जीवनसाथी और आश्रित जो वर्तमान में भारत में रह रहे हैं, उन्हें अमेरिकी-यात्रा-प्रतिबंध से छूट दी गई है।

उद्घोषणा में कहा गया है कि H1B, H2A, H4, या J1 वीजा धारक को, जिसका विजा 24 जून तक/को वैध नहीं है, 31 दिसंबर तक अमेरिका की यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। भारतीय लोग रोजगार-आधारित ग्रीन कार्ड की प्रतीक्षा में सबसे बड़ा समुदाय हैं। कैटो इंस्टीट्यूट (Cato Institute) के अनुसार, 200,000 से अधिक कुशल भारतीय श्रमिक रोजगार-आधारित वीजा बैकलॉग का लगभग 75 प्रतिशत हिस्सा है जो अभी भी ग्रीन कार्ड की मंजूरी के इंतजार में हैं।

रोज़गार-आधारित ग्रीन कार्ड की प्रतीक्षा करने वाले भारतीय वास्तव में ट्रंप की हाल की घोषणा से फ़ायदेमंद हो सकते हैं। सितंबर में वित्तीय वर्ष की समाप्ति पर अप्रयुक्त (unused) परिवार-आधारित ग्रीन कार्ड नंबर, 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले अगले वित्तीय वर्ष के लिए कर्मचारी-आधारित वीजा कोटा में दाल दिये जाएंगे। उद्घोषणा के कारण, प्राथमिकता की तारीखों (priority dates) में उन्नति हो सकती है जो उन भारतीयों के लिए फायदेमंद हो सकती है जो ग्रीन कार्ड प्रक्रिया के अंतिम चरण को फाइल करने में असमर्थ रहे हैं।

H1B वीजा के लिए आवेदन

केवल एक नियोक्ता (employer) के माध्यम से ही H1B वीजा का आवेदन किया जा सकता है, जिसका अर्थ है कि आप खुद से भारत में से H1B वीजा के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं। H1B वीजा नियोक्ता से जुड़ा होता है और यदि आप अपने नियोक्ता को बदलते हैं, तो यह आपके वीजा की स्थिति को प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा, अमेरिका में परिवार के सदस्य H1B वीजा को प्रायोजित (sponsor) नहीं कर सकते हैं।

भारत से H1B वीजा के लिए आवेदन करने के लिए, आपको कई महत्वपूर्ण चरणों का पालन करना होगा:

1. आवेदक एक H1B प्रायोजक खोजता है

H1B वीजा एक कार्य-वीजा है जिसका अर्थ है – आवेदक को आवेदन करने के लिए अमेरिकी नियोक्ता द्वारा स्वीकृत होना होगा। H1B वीजा के लिए आवेदन करने से पहले, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि संयुक्त राज्य में पहुँचने पर आपके पास किसी अमेरिकी कंपनी में रोजगार है। नौकरी आवेदन के शुरुआत से ही मन में यह बात स्पष्ट कर लें कि आपको अमरीका पहुँचने के लिए प्रायोजित होने की आवश्यकता होगी।

2. नियोक्ता लेबर कंडिशन्स अप्रूवल (Labor Conditions Approval LCA) के लिए निवेदन करता है

एक अमेरिकी कंपनी द्वारा काम पर रखने के बाद, आपका नियोक्ता श्रम विभाग (Department of Labor – DOL) को लेबर कंडिशन्स अप्रूवल (Labor Conditions Approval LCA) प्रस्तुत करके आवेदन शुरू करेगा। यह iCERT पोर्टल सिस्टम (iCERT Portal System) का उपयोग करके इंटरनेट पर किया जा सकता है। एक LCA नौकरी के विभिन्न तत्वों, जैसे स्थान, काम करने की स्थिति और भुगतान के बारे में DOL को सूचित करेगा। इस दस्तावेज़ की जटिलता के कारण, आपको यह सुनिश्चित करने के लिए अपने नियोक्ता के साथ सम्पर्क करना होगा कि सारी जानकारी सही है और DOL की आवश्यकताओं को पूरा करती है।

3. नियोक्ता फॉर्म I-129 जमा करता है

यदि LCA को मंजूरी मिल जाती है, तो नियोक्ता को फॉर्म I-129, गैर आप्रवासी कार्यकर्ता याचिका (Form I-129, Petition for a Nonimmigrant Worker) दायर करने की आवश्यकता होगी। प्रक्रिया के इस चरण में कार्यकर्ता की शिक्षा और अनुभव का मूल्यांकन किया जाता है। नियोक्ता को कुछ दस्तावेज भी जमा करने होंगे, जैसे कि प्रशिक्षण प्रमाण पत्र (training certificates), आवेदक का रेस्यूमे (applicant’s resume), समर्थन पत्र (letter of support) और रोजगार समझौता (employment agreement)। इसमें फीस भी शामिल है। इसमें 3 से 4 महीने लग सकते हैं।

4. आवेदक अमेरिकी दूतावास में आवेदन प्रक्रिया को पूरा करता है

यदि वीजा याचिका को मंजूरी दे दी जाती है, तो आवेदक अपने देश के अमेरिकी दूतावास कार्यालय या वाणिज्य दूतावास में प्रक्रिया को पूरा कर सकता है। इस प्रक्रिया में आमतौर पर केवल कुछ दिन लगते हैं, लेकिन स्थान के अनुसार ज़्यादा-कम हो सकते हैं।

H1B वीजा लॉटरी

USCIS H1B वीजा आवेदकों को चुनने के लिए एक कंप्यूटर-जनित यादृच्छिक चयन प्रक्रिया (computer-generated random selection process) का उपयोग करता है। इसे H1B लॉटरी के रूप में जाना जाता है। H1B वीजा लॉटरी का चयन H1B वीजा आवेदन, जो सालाना प्राप्त होते हैं, की उच्च संख्या को देखते हुये किया गया था।

जब वीज़ा एप्लिकेशन की संख्या वार्षिक सीमा से अधिक हो जाती है, तो USCIS बेतरतीब (randon) ढंग से आवंटित याचिकाओं की संख्या का चयन करता है। यदि आप H1B लॉटरी के दौरान नहीं चुने जाते हैं, तो USCIS आपकी याचिका और फाइलिंग फीस वापस कर देता है और आपको अपना आवेदन जमा करने और फिर से प्रयास करने के लिए अगले वर्ष तक इंतजार करना होगा।

एक आव्रजन अटार्नी (Immigration Attorney) के साथ परामर्श करें

भारत से H1B वीजा के लिए आवेदन करना एक लंबी और थकाऊ प्रक्रिया हो सकती है। आवेदन या याचिका में हुई किसी भी त्रुटि के परिणामस्वरूप विस्तारित देरी हो सकती है और संभवतः अमरीका में रोजगार का मौका छूट सकता है।

एक अनुभवी आव्रजन वकील (immigration attorney) H1B वीजा प्राप्त करने के लिए आवश्यक सभी फॉर्म्स और दस्तावेजों की तैयारी में सहायता कर सकता है। वह प्रक्रिया के दौरान आपका मार्गदर्शन कर सकता है और किसी भी प्रश्न का उत्तर दे सकता है। परामर्श (consultation) के लिए आज ही JacksonWhite Law में योग्य आव्रजन वकीलों से संपरक करें।

हमारी इमिग्रेशन टीम को (480) 626-2388 पर कॉल करें या नीचे दिये हमारे संपर्क फ़ॉर्म (contact form) को भरें।


संपर्क करें